अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
11.29.2007
 

भँवरा
दिव्या माथुर


कली
   फूल
      चखता
           घूमें

भँवरा है
एक ख़याल तेरा

न कभी थके
न कहीं टिके!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें