अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
11.29.2007
 

बहार
दिव्या माथुर


पेड़ों की
शीतल छाँव तले
यौवन था
जहाँ भी पाँव पड़े
अल्हड़ कलियाँ
यूँ शर्माईं
घूँघट में
छिपा लिये चेहरे
भँवरे थे
फूलों को घेरे
तितलियाँ लगातीं
सौ फेरे

कलकल करता
ठंडा पानी
कू कू करती
कोयल रानी
पपीहे ने पुकारा
मचा शोर
होकर विभोर
नाच उठे मोर

छा गई घटा
मनचली भली
लाल सुनहरी
साँझ ढली
लो आज गई
तन मन बुहार
झीनी भीनी सी
इक फुहार
फूलों से लदे
एक झूले में
         लो सजी धजी
                    आई बहार


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें