अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.12.2016

 

खुशी
दिविक रमेश


खुशी को मैंने
उँगलियों में पकड़ा
और सहलाया उसकी पंखुड़ियों को

पाया
खुशी शर्माते शर्माते
सकुचा गई थी

मैंने
थोड़ा खोला खुशी की पंखुड़ियों को

पाया
खुशी मेरी खुशी में
सम्मिलित हो गई थी

मैंने खोल दिया पूरा
और कर दिया अर्पित उसे
उस पूरी दुनिया पर
जहाँ नहीं थी वह

पाया
मैंने कभी नहीं देखा था खुशी को
इससे ज़्यादा खुश
पहले कभी

ताज्जुब
मेरी खुशी तक मना रही थी जश्न
जैसे मुक्त हो गई हो मेरी कैद से

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें