दिनेश ध्यानी


कविता

औरत का दर्द
कोई तो बतलाये
प्यारे भइया
मुझे मत मारो
मेरी व्यथा
विकास के नाम पर
शादी
सड़क का आदमी
समय को जानो