अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.15.2015


रिश्ते

"मीतु-रीतू आए नहीं?"' - सीमा ने अपने पति सुरेश से पूछा।

"नहीं, वे नहीं आएँगे, दीदी को अचानक दिल्ली जाना पड़ गया," - सुरेश ने कहा।

"चलो अच्छा है, आते तो कम-से-कम हज़ार की चपत तो ज़रूर लग जाती," - सीमा ने कुछ सोचते हुए कहा।

"हाँ, ये तो है। महंगाई बहुत है," - सुरेश ने कुछ असहज होते हुए कहा। सीमा से वह असहमत हो ऐसा नहीं, लेकिन ज़िन्दगी के तराजू में रिश्तों का दौलत से हल्का हो जाना उसे अखर गया था।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें