अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.22.2008
 

जीवन है परेशान
धवन भगत


जीवन है परेशान
मनुष्य है लेकिन महान
मशीन बन जो भागता है
         लोह का बेटा
             फौलाद बन गरमाये
                  लोहे पे हो के सवार
                        गिरे और संभले
निद्रा में लीन
      जागे और पछताये
               जीवन है परेशान
मन जो तन के भीतर
        खंडित
           मन में भावों का शमशान
                      चारों तरफ़ फैला शैतान
          हृदयहीन और बुद्धिहीन
  तिमिर के सब आधीन
जीवन संग जीवन संग्राम
            लड़ना मरना टुकड़े होना
                   क्या खोया क्या पाया
                          समझ न आया
         आहें भरना मार्ग तरना
  क्या सोचा क्या पाया
मन परचाया


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें