अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.01.2017


तरुणाई आँसुओं की

हरी हरी काईनुमा
जलाशय का हरा जल
रेंगते हुये असंख्य कीड़े हैं,
जल के अन्दर
जंग खाया हुआ
फव्वारों का यन्त्र लगा है,
सतह के ऊपर है
वर्तुलाकार टोंटियाँ।
चल रही है हवा
ह वा!
उठ रहा है बूँदों का बादल
  बा दल!
वर्गाकार आधार पर अवस्थित है
एक पिरामिड !
पिरामिड के चारों ओर हिल रहे हैं
सतरंगी इन्द्रधनुष!
इन्द्रधनुष डूबे है
मोतियों की झालरों में!
और झालरों में छिपी है
तरुणाई आँसुओं की।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें