अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.01.2017


भटकन

समुद्र की अनजान गहरी तलहटी तक
मैं गोता लगाता हूँ।
एक हिरन भागता है
तेजी से मेरी संगमरमरी आँखों के सामने।
शरीर मेरा पत्थर हो गया था पीला।
कहाँ कहाँ दौड़ती रही थी राजकुमारी,
कुडंल- कुंकुम लगाये।
सब कुछ स्वप्न था क्या ?
काली खोहों से सूरज की किरण तक !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें