अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.01.2017


25 हाईकू

1
जीवन एक
समझौता परक
मृत्यु अनेक।
2
पारदर्शिता
आफिस के हिसाब
का जाल तंत्र ।
3
मजबूरियाँ
कर नहीं सकते
अहसास से।
4
जानवर का
आदमी का वजूद
कुछ खास है।
5
सहज गुण
संयम नियंत्रण
श्रेष्ट लक्षण।
6
पर्यावरण
बरसात के बाद
शुभ्र धवल।
7
सब ऊपर
हृदय समर्पण
उल्टी मटकी।
8
कभी कभी ही
रात काली होती है
दिवाली पर।
9
अपनत्वता
परिणति स्वीकृति
स्वार्थरतता।
10
विस्मय बोध
पलटा तिलचट्टा
अच्छा न बुरा।
11
आत्म विश्वास
गहरा हो भले ही
अंतिम नहीं ।
12
असमर्थता
उचित अनुचित
निरर्थक है ।
13
मीठा स्वर
अहंकार प्रबल
अपरिचित।
14
वैकल्य ज्योति
सरकता प्रकाश
उदास स्थिति ।
15
तुम्हारा घर
हो अपनत्वहीन
जग निःसार ।
16
त्रिघातीय से
बड़ा है कम्प्यूटर
इंटरनेट ।
17
कृत्रिम पुष्प
प्लास्टिक संवेदना
सुरुचिपूर्ण ?
18
मन मस्तिष्क
प्रतिस्पर्धा रहित
सदा पुष्पित ।
19
आया सावन
नहीं सुनी दादुर
की टर्र टर्र ।
20
नम्र तकड़ी
धूप की उदारता
साधु चरित्र।
21
चम्पा के फूल
हँसती विहरिणी
वीरान पथ ।
22
प्रतिबिम्ब है
वास्तविक वस्तु का
शायद भ्रम ।
23
नारंगी पट
टीक की अलमारी
खाली रिक्तता।
24
मुँह चढ़ाते
एक मौत हुई है
सन्नाटा छाया।
25
पहले कि मैं
बोलूँ अपनी बात
खत्म हो गई।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें