धनपत राय झा


कविता

घट का यौवन
तुम्हारी कसम
ये पीढ़ियाँ