अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
या बहारों का ही ये मौसम नहीं
देवी नागरानी

या बहारों का ही ये मौसम नहीं
या महक में ही गुलों के दम नहीं।

स्वप्न आँखों में सजाया था कभी
आंसुओं से भी हुआ वह नम नहीं।

हम बहारों के न थे आदी कभी
इसलिये बरबादियों का ग़म नहीं।

आशियाना दिल का है उजड़ा हुआ
जिंदगी के साज़ पर सरगम नहीं।

जश्न खुशियों का भी अब बेकार है
ग़म का भी कोई रहा जब ग़म नहीं।

मौत का क्यों ख़ौफ़ ‘देवी’ दिल में हो
जीने से बेहतर कोई मौसम नहीं।



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें