अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
सबका मन अपना दुश्मन है
देवी नागरानी

सबका मन अपना दुश्मन है
सोचों की बाहम अनबन है
 

ख़ुश्क मिजाज़ों से यूँ मिलना
सन्नाटो का ज्यूँ मधुबन है
 

जब दुख ही दुख का मद्दावा
फिर क्या खुशियों में अड़चन है
 

जिसके लिये औरो से लड़ी
वो मेरा असली दुश्मन है
 

जो ग़ैरों को अपना कर ले
समझो उसमें अपनापन है
 

जो फूलों सा महके देवी
क्या तेरे दिल मे गुलशन है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें