अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
कुछ अंधेरो में दीपक जलाओ
देवी नागरानी

कुछ अंधेरो में दीपक जलाओ
आशियानों को अपने सजाओ।

घर जलाकर न यूँ मुफलिसों के
उनकी दुश्वारियाँ तुम बढ़ाओ।

कुछ ख़राबी नहीं है जहाँ में
नेकियों में अगर तुम नहाओ।

प्यार के बीज बो कर दिलों में
ख़ुद को तुम नफ़रतों से बचाओ।

शर्म से है शिकास्तों ने पूछा
जीत का अब तो घूँघट उठाओ।

इलत्ज़ा अशक़ करते हैं देवी
ज़ुल्म की यूँ न हिम्मत बढ़ाओ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें