अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
हिज्र में उसके जल रहे जैसे
देवी नागरानी

हिज्र में उसके जल रहे जैसे
प्राण तन से निकल रहे जैसे।

जो भटकते रहे जवानी में
वो कदम अब संभल रहे जैसे।

मौसमों की तरह ये इन्सां भी
फ़ितरत अपनी बदल रहे जैसे।

दर्द मुझसे ज़ियादा दूर नहीं
पास में ही टहल रहे जैसे।

आईना रोज़ यूँ बदलते वो
अपने चेहरे बदल रहे जैसे।

साँस लेते हैं इस तरह 'देवी'
सिसकियों में हों पल रहे जैसे।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें