अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.31.2017

 
परिचय  
 
नाम :

देवी नागरानी

जन्म : 1941 कराची, सिंध (पाकिस्तान)
शिक्षा :

बी.ए. ओसमान्या यूनिवर्सिटी से किया। 1961 से बम्बई में रहते हुए  माँटेसरी व गणित के डिप्लोमा हासिल किये जो मुझे यहँ न्यू जर्सी में एन.जे.सी. में 'अर्ली चाइल्डहुड' को पूरा कराने में मददगार साबित हुए हैं।

रचना कर्म : सिंधी, हिन्दी, तथा अंग्रेज़ी में समान अधिकार लेखन, हिन्दी-सिंधी में परस्पर अनुवाद। श्री मोदी के काव्य संग्रह, चौथी कूट (साहित्य अकादमी प्रकाशन), अत्तिया दाऊद, व् रूमी का सिंधी अनुवाद।
1972 से टीचर होने के नाते पढ़ती पढ़ाती रही हूँ और सही मानों में ज़िन्दगी की किताब के पन्ने नित नये मुझे एक नया सबक पढ़ा जाते हैं।
कलम तो मात्र इक ज़रिया है, अपने अन्दर की भावनाओं को मन के समुन्द्र की गहराइयों से ऊपर सतह पर लाने का। इसे मैं रब की देन मानती हूँ, शायद इसलिये, जब हमारे पास कोई नहीं होता तो यह सहारा लिखने का एक साथी बनकर रहनुमाँ बन जाता है। पढ़ते पढ़ाते भी रही - नादान मैं गँवार। बेहतर पढ़ा सकी मुझे, यह ज़िन्दगी की किताब!
प्रकाशन : 8 ग़ज़ल-व काव्य-संग्रह, (एक अंग्रेज़ी), 2 भजन-संग्रह, 8 सिंधी से हिंदी अनूदित कहानी-संग्रह प्रकाशित।
पुरस्कार : NJ, NY, OSLO, तमिलनाडू, कर्नाटक-धारवाड़, रायपुर, जोधपुर, महाराष्ट्र अकादमी, केरल व अन्य संस्थाओं से सम्मानित। साहित्य अकादमी / राष्ट्रीय सिंधी विकास परिषद से पुरस्कृत।
सम्पर्क : dnangrani@gmail.com