अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.19.2014


बरसाती घोड़े

उमड़ घुमड़ कर भूरे काले
मस्त चौकड़ी भरने वाले

देखो ये बरसाती घोड़े
नीलगगन में सरपट दौडे

बिजली का चाबुक खा खा कर
आँखों में आँसू ला ला कर

गरजे बरसे और दहाडे
बरसाती मतवाले घोड़े

मानो वेग पवन से पाकर
चेतक सा करतब दिखलाकर

सीधे तिरछे आडे दौड़े
देखो ये बरसाती घोड़े।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें