देव नाथ द्विवेदी

दीवान
झील समंदर दरिया हैं
कविता
तुम्हारे बिन