अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
09.06.2014


तुम और मैं

मैं बंदूक थामे सरहद पर खड़ा हूँ
और तुम वहाँ दरवाज़े की चौखट पर
अनन्त को घूँघट से झाँकती।
वर्जित है उस कुएँ के पार तुम्हारा जाना
और मेरा सरहद के पार
उस चबूतरे के नीचे तुम नहीं उतर सकतीं
तुम्हें परंपराएँ रोके हुये है
और मुझे देशभक्ति का जज़्बा
जो सरहद पार करते ही खतम हो जाता है
मैं देशद्रोही बन जाता हूँ
और तुम मर्यादा हीन
बाबू जी कहते हैं.. मर्यादा में रहो, अपनी हद में रहो
शायद ये घूँघट तुम्हारी मर्यादा है
और मेरी देशभक्ति की हद बस इस सरहद तक..।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें