अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.30.2014


ख़ामोशी

माँग करने लायक
कुछ नहीं बचा
मेरे अंदर
ना ख़्याल, ना ही
कोई जज़्बात
बस ख़ामोशी है
हर तरफ अथाह ख़ामोशी
वो शांत हैं
वहाँ ऊपर
आकाश के मौन में
फिर भी आँधी, बारिश
धूप, छाँव में
अहसास करता है
ख़ुद के होने का
उसके होने पर भी
नहीं सुन पाती मैं
वो मौन ध्वनि
आँधी में उड़ते
उन पत्तों में भी नहीं
बारिश की बूँदों में भी नहीं
मुझे नहीं सुनाई देती
बस महसूस होता है
जैसे मेरी ये ख़ामोशी
आकाश के मौन में
अब विलीन हो चली है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें