अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
05.09.2014


धुरी

कब तक बदहवास
चलती रहोगी
एक ही धुरी से
एक ही रेखा पर
धागे भी टूट जाते हैं
सीधा खींचते रहने पर

अँधेरा नहीं है
तो पैर नहीं डगमगायेंगे
पर ये धुरी बदल रही है
सीधी ना होकर गोल हो गयी है
तुम्हारी चाल के अनुरूप
उसी दिशा में प्रत्यक्ष
तुम्हारी धुरी पर
बस मैं ही खड़ा हूँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें