अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.03.2016


फागुनी बयार (हाइकु)

सकुचि बैठी
सखियन के संग
मोहे बुला लो

जिया कहे ये
पिया उठाओ मोरे
घूँघट पट

गले लगा लो
फागुनी बयार हूँ
मैं नटखट


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें