अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.03.2016


नैन

आकार मधुर शृंगार मधुर
तेरे नैनों का मनुहार मधुर
नववधु जैसे घूँघट में छुपी
तेरे नैन कपाट हैं उढ़के से
मृदु कोमल तेरी पलकों पर
नव लज्जा का है भार मधुर
लट घुँघराली लहराती सी
अरूणिम तेरे मधुर अधर
आकुल ये मेरे नैन कहें
कर नैनों संग अभिसार मधुर
दीपिका सगटा जोशी ’ओझल’


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें