अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.03.2016


घूँघट खोलती हूँ मैं

नही सामर्थ्य नैनों में
खुशी को व्यक्त जो कर दें
शब्द है खोजने मुश्किल
मुझे अभिव्यक्त जो कर दें
अबोली बन के बावरिया
मगन मन डोलती हूँ मैं

वक्त को थाम लो पल भर
कि घूँघट खोलती हूँ मैं

मेरे नादान शब्दों को
नहीं आया जो बतलाना
समझने का जतन करना
नैन से बोलती हूँ मैं

वक्त को थाम लो पल भर
कि घूँघट खोलती हूँ मैं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें