दीपिका सगटा जोशी "ओझल"

कविता
घूँघट खोलती हूँ मैं
नायाब अहसास
नैन
फागुनी बयार (हाइकु)
दीवान
एक बार रुख़े रोशन से