दीपक शर्मा

दीवान
उजालों के ना जब तक आये पैग़ाम
उमर के साथ साथ किरदार
जिस रोज़ हर पेट को
तेरी हर बात पर हम ...
बिखर रहा हूँ मेरे दोस्त
मोहब्बत के सफ़र पर
साँस जाने बोझ कैसे...