अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.17.2015


ऐसा पहली बार नहीं हुआ था

कई बार देखा था उन्होंने पंचांग
फिर भी मन में
एक संशय रह ही गया था

आख़िरकार
एक अच्छे मुहूर्त को देख
वे चलने को निकले ही थे कि
फड़फड़ा दिए थे कान
एक कुत्ते ने राह में
और वे खड़े रह गए थे वहीं

ऐसा पहली बार नहीं हुआ था
कि अपने मन के डर को उन्होंने
किया था बयां
किसी बेज़ुबां पर

कई बार बिल्लियाँ
उनका रास्ता काट चुकी थीं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें