दीपक पाटीदार

कविता
अब उनका आना
आधी नींद में
उस सूनी बस्ती में
ऐसा पहली बार नहीं हुआ था
जूते
नया रिश्ता