दीप कुमार


कविता

चलोगी! मेरे साथ तुम
चलते चलते जब थक जाऊँगा
चन्द आँसू, चन्द हँसी की फुहारें