चेतन आनन्द

दीवान
देर तक
सुख कम हैं, दुःख हज़ार