चंपालाल चौरड़िया अश्क


दीवान

चाँद तारों का सफ़र कर लें हम
ज़ख़्‍म भी देते हैं मरहम ...
मिज़ाज पूछने आए.....
हम उठे तो जग उठा