चाँद शेरी


दीवान

आज का राँझा हीर बेच गया
तू न अमृत का पियाला दे हमें
मुल्क तूफ़ाने-बला की ज़द में है
वक्‍़त भी कैसी पहेली दे गया