अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.13.2007
 
 मिलन की आस
सी.आर. राजश्री


जिन्दगी तुम्हारे बिन पिया है अधूरी,
लौट आओ तुम, मिटा दो ये दूरी,
भुला दो हमारे बीच के गिले शिकवे,
मन हो गया है मायूस, पथरा गई है आँखें।

याद आते है जब वो मीठे लम्हों के वादे,
की थीं जब हमने हसीन वादियों में मुलाकातें,
तोड़ कर अपने सारे रिश्ते और नाते,
की थी जब तुमने हमसे प्यार भरी बातें।

हो गये क्यों, तुम मुझसे ख़फ़ा,
होकर विमुख हमसे, न कहलाओ बेवफ़ा,
जीवन है चार पल का न गँवाओ ऐसे,
नैन बिछाये बैठे है हम न बर्ताव करो ऐसे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें