अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.29.2007
 
दिवाली
सी.आर. राजश्री

देखो दिवाली आ गई!!!!
देखो दिवाली आ गई!!!!

सुन्दर दीपक जल उठे,
आशा के नए उमंग खिल उठे,
फूल-सा पूरा माहौल महक उठे,
बच्चे, बूढ़े, नर-नारी सब चहक उठे।
देखो दिवाली आ गई!!!!
देखो दिवाली आ गई!!!!

आ गई है त्योहार दिवाली की,
मौज-मस्ती से अब दिन गुजारने की,
मन की सारी व्यथा को भूल जाने की,
भाईचारे और प्रेम को फिर से बढ़ाने की।
देखो दिवाली आ गई!!!!
देखो दिवाली आ गई!!!!

साफ-सफाई सारे घर की हो गई,
मिठाईयों की खुशबू सब ओर फैल गई,
दिल में नई अरमान जग गई,
भूमण्डल सारी शोभित हो गई।
देखो दिवाली आ गई!!!!
देखो दिवाली आ गई!!!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें