अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.31.2014


मत बनो ज्वालामुखी

मत बनो ज्वालामुखी, लावा न उगलो शान से
बन हिमालय-सा अडिग गंगा बहावो शान से।

मत कहो आकाश से कुहरा घना करता चले
हर सुबह सूरज हमारा ऊगने दो शान से।

मत गिनो दरख़्त जो ठूँठ से अकड़े खड़े हैं
इक हरा दिखे परिंदों उसको सजावो शान से।

मत चुनो अल्फाज़ जो शर्मसार सबको करें
बोल जो प्यारे लगें, उन्हीं को बोलो शान से।

मत बनो गूँगे इस बहरे जगत के सामने
यह वक़्त की आवाज़ है गूँजने दो शान से।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें