अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.25.2014


बन्दर

एक बन्दर काला था
लम्बी पूँछ वाला था
ऊँचे झाड़ पे रहता था
मीठे फल खाता था

एक आम तोड़ लिया
चार आम गिरा दिया
हम बच्चों ने देख लिया
मिल जुलकर खा लिया।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें