अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.06.2007
 
प्रक्रिया
डॉ. भावना कुँअर

बीज - अंकुर - पौधा - पेड़ -
फूल - फल -
पकना -
फिर बीज बनना
फिर वही मिट्टी- वही पानी-
वही धूप- वही छाया-
वही अंकुर- वही पौधा-
वही पेड़- वही फल-
बस यही प्रक्रिया है
अनन्त तक।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें