अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.19.2014


तुम केवल

तुम केवल अक्षरों की पहचान को ही
पढ़ने का नाम देते हो
मगर मैं इसके परे भी
पढ़ पाता हूँ बहुत कुछ
पिताजी के गुस्साने पर
माँ की आँखों का दर्द
भाई के बहानों में छिपा झूठ
या पड़ोसी के बेटे की कुटिलता
और रिश्तों में पसरी तटस्थता,
हाँ, यह भी पढ़ पाता हूँ मैं
कि मुझे मूल्यों का पाठ पढ़ानेवाले
ख़ुद कितने मूल्य सहेजते हैं।
मगर तुम्हारे लिए इतना पर्याप्त नहीं
पढ़ने के कौशल के लिए,
तुम तो आज भी बस
अक्षरों की ही पहचान को
पढ़ने का नाम देते हो।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें