अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
07.27.2014


पदचिह्न

 उम्र छोड़ती जाती है पदचिह्न
चेहरे पर हमारे कदम दर कदम
झुर्रियाँ , झाइयाँ ,धब्बे बनकर
शायद ही छुपा पाते हैं प्रसाधन उन्हें

उम्र छोड़ती जाती है पदचिह्न
शरीर पर हमारे कदम दर कदम
मोटापा, रक्तचाप,संधिवात बनकर
शायद ही मिटा पाती है दवाएँ जिन्हें

कुछ पदचिहन छोड़ती है उम्र
समझ पर भी कदम दर कदम
बड़प्पन और सुन्दर विचार बनकर
नहीं पड़ती ज़रूरत छिपाने की जिन्हें
क्योंकि
जीवन सार्थक कहलाता है इनके ही होने पर


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें