अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
05.09.2014


दिखता न हो जब किनारा कोई

दिखता न हो जब किनारा कोई,
मिलता न हो जब सहारा कोई
जला ले दीया खुद ही की रोशनी का,
कोई तुझसे बढ़कर सितारा नहीं।

तूफ़ां तो आए है आते रहेंगे,
ग़मों के अँधेरे भी छाते रहेंगे,
आगाज कर रोशनी का कि तुझको,
अँधेरों की महफ़ि़ल गवारा नहीं।

माना कि ये इतना आसां नहीं है,
मगर सम्हले गिर के जो इन्सां वहीं है,
तारीके शब में उम्मीदों का परचम,
कहीं इससे बेहतर नज़ारा नहीं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें