अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.28.2007
 
दिवाली मनाना है
डॉ. भारतेन्दु श्रीवास्तव

 देह दीप बाती को प्रज्वलित कर के
आत्म-ज्योति मुझको यहाँ फैलाना है,

अंदर-बाहर, सर्वत्र तिमिर की कालिख
’भारतेन्दु’ पूरी तरह मिटाना है;

श्री संपदा से विभूषित हों,
निर्धनता सारी मिट्टी में मिलाना है,

सु मन में सुख-शांति-समृद्धि सुमन खिलें,
’भारतेन्दु’ ऐसी दिवाली मनाना है।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें