भारतेन्दु श्रीवास्तव


कविता

कविता
दीवाली
दीवाली मनाना है
मनरंजना! मन रंजना!
सहगामी पथिक
सुनामी
स्मृति