अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
तेरा नाम
भगवत शरण श्रीवास्तव "शरण"

तुम्हें खोके मैंने न जाने क्या खोया।
हँसी तो हँसी थी ये ग़म मुस्कुराया।।

न जाना न समझा न कोई सदा दी।
न मुड़के ही देखा न कुछ भी बताया।।

 मेरी ज़िन्दगी के हर एक ही सफे पर।
लिखा नाम तेरा मेरे संग ही पाया।।

ये जीवन अनोखी कहानी सुनाता।
कोई सुनके भी तो, नहीं सुन है पाया।।

सुनाऊँ किसे अब ये भूली कहानी।
जो पिछले दिनों में ही मैं छोड़ आया।।

प्रणय के मधुर मन्त्र में मुग्ध होकर।
लिखा था किसी ने "तुम्हें मैंने पाया"।।

"शरण" की तो केवल है इतनी कहानी।
जो खोता हमेशा कभी कुछ न पाया।।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें