अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
स्वप्न का संसार
भगवत शरण श्रीवास्तव "शरण"


स्वप्नों का संसार सुन्दर लगता है।
पुष्पों का श्रृंगार सुन्दर लगता है।
पतझर की भी आओ हम बातें कर लें।
त्याग सभी कुछ अपना देखो चलता है।

कथा कहानी जीवन की कुछ ऐसी है।
त्याग भार संसार प्यार जब रमता है।
कौन कहाँ रम जाय देखो नहीं पता है।
जग चलता ही रहता कभी न थमता है।

चलते चलते कहीं साँझ भी तो आयेगी।
थकित बटोही बैठ वहीं पे दम भरता है।
यदि सपने न हों तो जीवन दूभर होगा।
कल का सपना देख कहीं चल पड़ता है।

स्वप्न टूटता आँख तभी खुल जाती है।
जीवन औ सपनों में कितनी समता है।
आँख खोल संसार निहारा हर पग पर।
कहीं स्वप्न सा जीवन पल में ठगता है।

स्वप्न देखना देखो है अधिकार सभी का।
यत्न ही करके, मानव तो कुछ करता है।
बिना मोल के यहाँ अरे साँसें बिक जाती हैं।
मागों का सिन्दूर कहीं पर जब लुटता है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें