अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
कठिन विदा
भगवत शरण श्रीवास्तव "शरण"

विचलित मन में कातर साँसें
कम्पित तन मे आतुर आहें ।
मौन हैं कितने भाव हृदय में
मुकुलित पथ पर पाथर राहें ।

हृदय विदीर्ण निरख घन छाये
कैसे टूटा वाद्य बजायें ।
मुख ललाम सा पुण्य धाम सा
फिर क्यूँ गुम सुम हुईं दिशायें ।

कण्ठ रूँधा है कठिन विदा है
कोई न शब्द अधर पर आयें ।
शब्द छिन रहे द्रवित नयन हैं
बोलो किस से क्या बतलायें ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें