अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
होली आई
भगवत शरण श्रीवास्तव "शरण"

तन रंग लो मन रंग लो, आज फिर होली आई रे।
रंग ले के टोली आई रे, चहुँ दिस धूम मचाई रे।
कोई नाचे कोई झूमें, कोई कहीं होली गवाई रे।
भाँति भाँति के रंग रंगे सब, प्रेम की भंग चढ़ाई रे।।

और तो रंग उतर जायेंगे प्रेम रंग कभी न जाई रे।
जिस पर चढ़ गया प्रेमरंग श्याम का दर्शन पाई रे।
प्रेम के रंग में रंग गई मीरा गिरधर लगन लगाई रे।
सूर श्याम की महिमा गाई, नयन बिन दर्शन पाई रे।।

प्रेम की भाषा पशु भी जाने, सुन लो सब जन भाई रे।
प्रेम शक्ति है प्रेम भक्ति है प्रभु ने ये बात बताई रे।
होली का रंग सच का रंग है, ईश की महिमा गाई रे।
नरसिंह बन हिरणकुश तारा, होलिका दहन कराई रे।।

प्रेम पगे हैं संत कबीरा, ज्ञान की राह को दिखाई रे।
झीनी झीनी बिनी चदरिया सब, जीवन मर्म बताई रे।
यह जीवन उजली चादर सा, लगे न दाग ओ भाई रे।
प्रेम का साबुन इसे लगा के, द्वेष का दाग छुड़ाई रे।।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें