अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.08.2007

हिमपात - (प्रेम के विभिन्न धरातल)
अनिल प्रभा कुमार

उमर अपना अल्हड़ आँचल
माथे पर साध कर
,
बड़ी शालीनता से
कुछ यूँ
खड़ी हो जाती है
हालातों के घुमाव पर
,
कि हम

               जो घंटों निहारा करते थे
              
बिजली के खम्बे पर
              
बरसती बौछार को
,
              
खन-खन
             
हज़ारों मोतियों में टूटती
             
बिखरती लड़ियों को।
                    
अब भी
, उतारते हैं
                      
आँखों से आत्मा तक
,
                         
दूर-दूर तक फैली
                            
बर्फ़ीली सफ़ेदी का विस्तार।
                        
सब कुछ श्वेत
,
                  
सूफ़ी संतों के रहस्यवाद सा
             
मैं तुम-मय और तुम मुझ-मय
,
         
एक ही सफेद रंग में लीन!
 
फिर अचानक कोई
         
अपने कदमों से
           
रौंध कर चला जाता है
,
             
उस उजली निस्तब्धता का कोरापन।
                              
झटके से उठ कर,
                               
एक गहरी साँस लेकर
                              
सोचते हैं अब हम
,
                              
ऐसे मौसम में
                              
घर कैसे लौटोगे तुम
?