अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.04.2016


काश मै भी कुत्ता होता..!

मई - जून की चिलचिलाती हुई धुप, वो सुबह से रिक्शा खींचते-खींचते थक चुका था। सुस्ताने के लिए किसी बड़े मकान की छाँव में बैठ गया। थोड़ी ही देर में, अंदर से एक पालतू कुत्ता उसे देखकर भौंकने लगा। कुछ देर पश्चात उस मकान से एक महिला निकली। उसे देखकर फटकारते हुए बोली, "जाओ यहाँ से, देखते नहीं तुम्हे देखकर मेरा डॉगी कितना भौंक रहा है? कहीं भौंकते-भौंकते उसका गला सूख गया तो? चलो भागो यहाँ से!"

वह उठकर वहाँ से चल दिया। और मन ही मन कहने लगा, "काश मै भी कुत्ता होता!"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें