अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.15.2009
 

 गुड़िया हूँ मैं
अवनीश कुमार गुप्ता


कहते हैं
गुड़िया रोती नहीं
सुबुकती नहीं
गुड़िया सिर्फ़ मुस्काती है
पलकें झपकाती है

पर सिर्फ़ गुड़िया जानती है
कैसे अम्मा के तानों को ख़ामोशी से सहती है
बापू के भरोसे को अपना गहना समझती है
कैसे छत के कोने में चुपचाप सुबुकती है
और आँसू पोंछकर फिर मुस्काने लगती है

कैसे रात रात भर जगती है
यही सोचती रहती है
किसको कैसे समझाए
कैसे अपनी मूक व्यथा बतलाये

क्यों भइया की सारी बातें
अपने आप सही हो जाती हैं
क्यों उसकी छोटी सी गलती भी
सबको असहनीय हो जाती है

जब वो हँसती है
सब कहते हैं
लड़की होकर इतना क्यों हँसती है

जब-जब गुमसुम चुपचाप सी रहती है
सब कहते हैं
इतना नखरा क्यों करती है

जब अपनी इच्छा से कुछ करती है
सब कहते हैं
गुड़िया किसी की नहीं सुनती
बस मनमानी करती है
गुड़िया बदल गई है
गुड़िया बिगड़ गई है

बापू तुम ही तो कहते थे
हम अपनी प्यारी गुड़िया को
दुनिया की सारी खुशियाँ दे देंगे
एक चाँद छोड़कर जो माँगेगी
सब लाकर तुझको देंगे

बापू कभी तो अपनी गुड़िया से आकर पूछो
किस हाल में अब वो रहती है
कैसे बाहर दुनिया उसे काटती है
कैसे घर में सबको चुभती है

किससे बोले कहाँ जाए
क्या कहे किसको सुनाए

कभी क्या ऐसा हो पायेगा
कोई पढ़कर उसकी आँखों को
उसकी बात उसी को बतलायेगा

आख़िर
उसकी जगती रातों को कब
कोई सपना मिल पायेगा
उसके अपने सपनों को
कौन अपना बतायेगा


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें