अविचल त्रिपाठी

कविता
आशायें बस इतनी सी
कैंसर
जाने क्यों??
तेरी ज़रूरत
पोइटो
व्याख्या
"हम" से "मैं" बनने के सफ़र में