अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.08.2016


सुनहरी धूप

अब तुम नहीं हो
कहीं चली गयी हो
जैसे सर्दियों में
वक़्त रहते ही
कहीं चली जाती है
सुनहरी धूप।
और जम गया है
तुम्हारी यादों का कुहरा घना
की दूर तक कुछ दिखाई नहीं देता
तुम्हारे सिवा।

ज़रूरत है तुम्हारी
धूप जैसी ही
पर अब आगे तो स्याह रात है
सर्द
तुम्हारे मिज़ाज़ जैसी
और मैं इस ख़याल में हूँ
की फिर सुबह होगी
गुनगुनी धूप वाली
गरमाहट आएगी
हवाओं में
रिश्तों में
कि तुम आ जाओगी
यूँ ही कहीं से।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें